अश्वगंधा चूर्ण के फायदे, नुकसान और सेवन का तरीका | Ashwagandha Powder Benefits in Hindi

0
46
ashwagandha-ke-fayde

आज के समय में जब हम छोटी से छोटी समस्याओं के लिए डॉक्टर्स के पास भागते है वही हम भूल जाते है की हमारे शरीर से जुडी हर छोटी से लेकर बड़ी बीमारी तक का इलाज हमारे आस पास ही मौजूद है | यह प्रकृति अद्भुत खजानों से भरी हुयी है | लेकिन जानकारी के अभाव में हमें इसके बारे में पता नहीं होता है | ऐसी ही एक जड़ी है अश्वगंधा | अश्वगंधा के फायदे (ashwagandha ke fayde) तो हमारे स्वास्थ्य के लिए अनेक है लेकिन इसके सही सेवन का तरीका पता होना जरुरी है | और किन परिस्थियों में यह नुकसान दायक हो सकता है यह भी पता होना चाहिए |

अश्वगंधा का अर्थ होता है अश्व यानि की घोड़े की गंध | इसका यह नाम इसलिए रखा गया है की इस जड़ी में से घोड़े के पसीने जैसी गंध आती है | अश्वगंधा बलबढ़ाने वाली , पोषण प्रदान करने वाली , वीर्य बढ़ाने वाली और सौन्दर्य को बढ़ाने में बहुत ही लाभकारी होती है |इसके अलावा भी अश्वगंधा का उपयोग अवसाद, तनाव को दूर करने के साथ ही हेल्थ टॉनिक के रूप में किया जाता है | अश्वगंधा एक बहुत ही पोस्टिक जड़ी है इसमें एनाहिग्रीन , एनोफेरिन, ट्रायडोस्पिन, बीदोसामिन ट्रोपीन, सोम्निफ़ेरीन जैसे क्षारीय तत्व पाए जाते है | जो की शरीर में बल बढ़ाने वाले और रासायनिक गुण रखते है | साथ ही इसमें स्टार्च , शर्करा, अम्ल, ग्लाइकोसाइड और एमिनो एसिड पाए जाते है जिनसे की कई तरह के रोग दूर रहते है |

तो आइये जानते है अश्वगंधा कोन कोन से रोग में लाभकारी होती है |

ashwagandha-ke-fayde-maigraine-me

विषय सूची

अश्वगंधा चूर्ण के फायदे माइग्रेन में | Ashwagandha Powder Benefits in Migraine in Hindi

अश्वगंधा चूर्ण के फायदे(ashwagandha ke fayde) माइग्रेन के दर्द के इलाज में बहुत लाभकारी होते है| जिन लोगो को माइग्रेन यानि की सर में लगातार दर्द रहता है उन्हें अश्वगंध की ताजा जड़ को पत्थर पर घिसकर लेप बना ले और इस लेप को अपने मस्तिष्क पर लगाए | साथ ही एक – एक चम्मच अश्वगंध के चूर्ण को 1 कप दूध के साथ रोजाना सेवन करें | आपको कुछ ही दिनों में माइग्रेन के दर्द में लाभ मिलेगा|

अश्वगंधा चूर्ण के फायदे अनिद्रा में | Ashwagandha Powder Benefits in Hindi

जो लोग को नींद न आने के कारण यानि की इन्सोमेनिया की बीमारी से परेशान है | उन लोगो को रोजाना सोने से एक घंटे पहले 1 चम्मच अश्वगंधा के चूर्ण को 1 कप दूध के साथ लेना चाहिए | अश्वगंधा चूर्ण के फायदे (ashwagandha churna ke fayde) अनिद्रा में बहुत अधिक फायदेमंद होते है |

ashwagandha benefits in piles-in-hindi

अश्वगंधा चूर्ण के उपयोग बवासीर में फायदेमंद है | Ashwagandha Uses in Hindi

अश्वगंधा चूर्ण के उपयोग बवासीर का घरेलू इलाज के रूप में भी किया जाता है जो की काफी तेजी से राहत दिलाता है | अश्वगंधा चूर्ण की आधी चम्मच, काले तिल की 2 चम्मच मक्खन की 1 चम्मच सबको मिलाकर रोजाना सुबह खाई पेट 2 हफ्ते तक सेवन करनी चाहिए इससे बवासीर की समस्या में काफी लाभ मिलता है | और नियमित इस्तेमाल से बवासीर की समस्या पूरी तरह खत्म हो जाती है |

ashwagandha-ke-fayde

अश्वगंधा चूर्ण के फायदे शिघ्नप्तन,स्वप्नदोष में Ashwagandha Benefits for Men in Hindi

आज के समय में बचपन में की गयी गलतिओ , शारीरिक निष्क्रियता और खानपान में पोषक तत्वों की कमी की वजह से पुरुषो में स्वप्नदोष, शिघ्नप्तन, नपुसंकता जैसी कई तरह की समस्या कम उम्र में ही सामने आने लगती है | ऐसे में अश्वगंधा चूर्ण के फायदे (ashwagandha churna ke fayde) शिघ्नप्तन,स्वप्नदोष जैसी बीमारियों में सबसे अधिक लाभकारी होते है | जिन लोगो को मरदाना कमजोरी , शिघ्नप्तन, स्वप्नदोष और इसी तरह की अन्य योन बीमारिया है उनके लिए अश्वगंधा बहुत ही फायदेमंद औषधि  है |

अश्वगंधा के फायदे यौन दुर्बलता दूर करने में | Ashwagandha Powder Benefits in Hindi

यौन दुर्बलता दूर करने में अश्वगंधा के फायदे (ashwagandha khane ke fayde) बहुत अधिक लाभकारी है | इस नुस्खे को बनाने के लिए हमे जरुरत होगी अश्वगंधा, विधारा, तालमखाना और सफ़ेद मूसली की | इसके लिए अश्वगंधा और विधारा की 50 – 50 ग्राम मात्रा ले | और तालमखाना और सफ़ेद मूसली 30 – 30 ग्राम मात्रा ले | अब इन्हे आपस में मिला ले | अब इसमें 50 ग्राम मुलेठी और 50 ग्राम शतावर मिला कर उनका चूर्ण बना ले | अब इस मिश्रित चूर्ण की आधी मात्रा में मिश्री लेकर इसमें मिला ले | अब रोजाना एक चम्मच यह चूर्ण दूध और पानी के साथ सुबह और शाम सेवन करें | यह एक अचूक नुस्खा है और इससे आपकी योन दुर्बलता दूर  होती है , वीर्य में शुक्राणुओं की संख्या बढ़ती है | और आप बिस्तर पर अपने पार्टनर को खुश कर पाएंगे |

ashwagandha-benefits-for-weight-gain-in-hindi

अश्वगंधा के फायदे शारीरिक दुर्बलता दूर करने में | Ashwagandha Benefits in Hindi

थकान और कमजोरी दूर करने के उपाय के रूप में भी अश्वगंधा के फायदे (ashwagandha churna ke fayde) बिलकुल परखे हुए है | इसके लिए अश्वगंधा सफ़ेद मूसली और विधारा को सामान मात्रा में ले, और इन्हे अच्छी तरह कूटकर छान ले | इसके बाद इनके मिश्रण में बराबर की मात्रा में मिश्री मिला कर एयरटाइट शीशी में रख ले | अब इस मिश्रण की 1 चम्मच रोजाना सुबह और रात को दूध के साथ सेवन करे | अगर आप यह नुस्खा 3 महीने तक आजमाते है तो आप पाएंगे की आपके शरीर की कमजोरी दूर होगी और आपको एनर्जी मिलेगी |

अश्वगंधा कैप्सूल के लाभ वजन बढ़ाने में | Ashwagandha Benefits for Weight Gain in Hindi

जिन लोगो का वजन कम है उन्हें रोजाना अश्वगंधा चूर्ण ( ashwagandha ke labh) की एक चम्मच का गर्म दूध के साथ सेवन करना चाहिए | आप चाहे तो वजन बढ़ाने के तरीके के रूप में अश्वगंधा कैप्सूल भी दूध के साथ ले सकते है | इससे आपकी शरीर की दुर्बलता दूर होकर आपका शरीर तंदुरुस्त बनता है |

अश्वगंधा चूर्ण के फायदे सफ़ेद पानी की समस्या में |
Ashwagandha Benefits for Woman in Hindi

आज के समय में महिलाओं में सफ़ेद पानी की समस्या तेजी से बढ़ती जा रही है | अश्वगंधा चूर्ण के फायदे (ashwagandha ke fayde) सफ़ेद पानी की समस्या में बेहद लाभकारी है | इसके लिए अश्वगंध का चूर्ण और मिश्री की एक एक चम्मच मिलाकर एक कप गर्म दूध के साथ रोजाना सुबह शाम सेवन करना चाहिए | इससे सफ़ेद पानी की समस्या में तो फायदा मिलता ही है शरीर की कमजोरी भी दूर होती है |

ashwagandha-ke-fayde-banjhpn-dur

अश्वगंधा चूर्ण का उपयोग बांझपन दूर करने में | Ashwagandha Benefits in Infertility Treatment in Hindi

माँ बनने से बड़ा सुखद अहसास एक महिला के लिए और कुछ नहीं होता |  लेकिन कुछ समस्या के चलते कई महिलाएं माँ नहीं बन पाती | ऐसे में अश्वगंधा के सेवन से कई महिलाये बड़ी उम्र के बाद भी माँ बनने में सफल हो पायी है| अश्वगंधा चूर्ण का उपयोग (ashwagandha ka upyog) बांझपन उपचार में सबसे अधिक प्रभावकारी सिद्ध होता है | इसके लिए अश्वगंधा चूर्ण की एक चम्मच को गाय के दूध के साथ रोजाना सेवन करने से शरीर में गर्भधारण करने की क्षमता पैदा होती है | इसके अल्वा एक और नुस्खा है उसके लिए आपको एक चम्मच अश्वगंध पावडर को दो कप पानी में मंद मंद आंच पर उबालकर पीरियड के समय एक  बार पिने से संतान उत्पन्न होने की संभावना बढ़ जाती है |

अश्वगंधा लाभकारी है कैंसर में

अश्वगंधा एक करामाती आयुर्वेदिक औषधि है और इससे कई तरह के रोगो को दूर किया जा सकता है | यह बात अब डॉक्टर भी मानने लगे है | अश्वगंधा पर की गयी रिसर्च में यह बात सामने आयी है की यह कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी में भी लाभकारी है | और इसके उपयोग और सेवन से कैंसर को भी ठीक किया जा सकता है | अश्वगंधा में एंटी ट्यूमर गुण होते है जो की कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकते है और कैंसर को ठीक करने में लाभकारी होते है |

डाइबिटीज में लाभकारी है अश्वगंधा

आज के समय में लोगो का रुझान पारम्परिक चिकित्सा की और गया है | क्युकी यह चिकित्सा एक तो कम खर्चीली होती है और इससे किसी भी बीमारी को पूरी तरह ठीक किया जा सकता है | अश्वगंधा को लेकर चूहों पर एक शोध किया गया था | जिसमे जिन चूहों को अश्वगंधा की जड़ी और पत्ते दिए गए उनमे डाइबिटीज की समस्या तेजी से दूर होने लगी और सकारात्मक परिवर्तन दिखाई देने लगे | इससे यह निष्कर्ष निकाला गया की अश्वगंधा डाइबिटीज में भी लाभकारी है |

हृदय रोग में लाभकारी है अश्वगंधा

अश्वगंधा ना सिर्फ आपको कई तरह की बीमारियों को ठीक करने में लाभकारी है, साथ ही यह आपके हृदय को स्वस्थ रखकर आपकी उम्र को भी बढ़ाता है | हाल ही में ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंस ने अश्वगंधा पर एक स्टडी की जिसमे उन्होंने बताया की अश्वगंधा की एक निर्धारित और संतुलित मात्रा लेने से हार्ट के जरुरी सेल्स को नस्ट होने के असर को कम किया जा सकता है| साथ ही अश्वगंधा ह्रदय के स्वस्थ और मजबूत सेल्स को फिर से क्रियाशील करती है |

हम उम्मीद करते है की आज की यह जानकारी आपके लिए फायदेमंद सिद्ध होगी | आगे भी हम सेहत से जुडी ऐसी ही उपयोगी  जानकारी आपके लिए लाते रहेंगे | अगर आपको यह पोस्ट पसंद आयी हो तो इसे लाइक और शेयर करें | अगर आपके पास अश्वगंधा चूर्ण के फायदे और नुकसान से सबंधित कोई सवाल या सुझाव हो तो कमेंट करें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here