बवासीर के लक्षण और बवासीर का घरेलू उपचार | Piles Home Remedies in Hindi

0
40
bbawaseer-ka-gharelu-upchar

अगर आप अधिक फास्टफूड खाते है तो सावधान हो जाइये आपकी यह गलती आप पर बहुत भारी पड़ सकती है | आप सायद नहीं  जानते होंगे की अधिक फ़ास्ट फ़ूड का सेवन बवासीर होने का बड़ा कारन होता है | क्युकी फास्टफूड में रेशो की कमी होती है जिससे पेट में कब्ज होता है और और लम्बे समय तक इसके सेवन से  बवासीर होने की सम्भावना बढ़ जाती है | बवासीर के लक्षण देखकर उसका समय रहते इलाज करने से उपचार में जल्दी फायदा मिलता है |

बवासीर क्या है और बवासीर होने का कारन | Piles Treatment in Hindi

हमारे पुरे शरीर में रक्त को ले जाने वाली रक्तवाहिकायें होती है जिनमें हर वक्त रक्त घूमता रहता है | पेट में अधिक कब्ज रहने से मलद्वार की रक्त वाहिकाएं इकट्ठी होकर गुच्छा सा बन जाती है | जिनमे रक्त  भर जाने से यह फूल जाती है जिसे की मस्सा भी कहते है | इस मस्से में से भारी दर्द और रक्त स्त्राव भी होता है | यह बीमारी हमारे गलत खानपान और सही ढंग से पेट के साफ़ नहीं होने की वजह से होती है |

इसलिए बवासीर की बीमारी से बचने का सबसे अच्छा उपाय है की पेट में कभी भी कब्ज नहीं होने देना चाहिए | इसके अलावा जब पेट साफ़ नहीं होता है और आप मल त्याग करने के लिए जोर लगाते है तो इसके कारन पड़ने वाले दबाव से भी रक्तवाहिकायें गुच्छे का रूप ले लेती है जो की बवासीर का कारन बनता है | इसलिए कभी भी मलत्याग करते समय अधिक जोर नहीं लगाना चाहिए | साथ ही अधिक शराब पिने, यकृत की खराबी, बिना शारीरिक मेहनत की जीवनशैली और पेट में गर्मी पैदा करने वाली दवाइयों के सेवन भी बवासीर होने का कारन बनता है |  

बवासीर के लक्षण | Symptoms of Piles in Hindi

अगर मल त्याग करते समय खून के टपके गिरते हो , कांटे चुभने जैसी पीड़ा होती हो , गुदा द्वार में जलन या खुजली होती हो तो यह सभी बवासीर के लक्षण ( piles ke lakshan) होते है |

अब जानते है उन उपायों के बारे में जिनसे बवासीर की समस्या को जड़ से ख़त्म किया जा सकता है और जीवन को इस दर्दनाक रोग से मुक्ती पाकर जीवन को सुखमय बनाया जा सकता है |

bawaseer-ka-gharelu-upchar

बवासीर के घरेलू उपचार में निम्बू है फायदेमंद | Piles Home Remedies in Hindi

सबसे पहला उपाय है निम्बू जो की बवासीर के घरेलू उपचार ( piles ka gharelu upchar ) में बहुत ही कारगर है | सबसे पहले 1 निम्बू के रस को महीन कपडे से छानकर उसमें समान मात्रा में जैतून का तेल मिलाकर 5 ग्राम की मात्रा को  ग्लिसरीन सीरीज से अपनी गुदा में प्रवेश कराने से बवासीर की जलन कम होती है और दर्द दूर होता है | साथ ही मस्से भी छोटे हो जाते है जिससे की आपको मल त्याग करने में कोई दिक्कत नहीं आती है | अगर बवासीर में तेज दर्द और खून निकल रहा है तो उस दिन कुछ ना खाये और पानी में निम्बू मिलाकर पियें | साथ ही  ताजा निकाले हुए दूध से चार कप भर ले अब इन सब में आधा आधा निम्बू निचोड़कर एक एक करके पीते जाएं | अगर आप 2 सप्ताह तक ऐसा करते है तो बवासीर की समस्या पूरी तरह से खत्म होगी |

ये भी पढ़ें : निम्बू के छिलके के फायदे

बवासीर का घरेलू उपचार करें बैगन से | Piles Home Remedies in Hindi

अगला नुस्खा जो हम बवासीर का घरेलू उपचार ( bawasir ke gharelu nuskhe ) के रूप में करने जा रहे है वो है बैगन | सबसे पहले बैगन के ऊपर के डाँड़ और उसके छिलके को सूखा ले | और फिर इन्हे अच्छी तरह पीस ले | इसके बाद जलते  हुए कोयलों पर डालकर मस्सो को धुआँ दे | और बैगन को जलाकर उसकी रख सहद में मिलाकर मस्सों पर लगाए | इससे मस्से सुख कर झड़ जायेंगे |

bawaseer treatment in hindi

बवासीर का घरेलू इलाज करें आम से | Bawaseer Treatment in Hindi

अगला उपाय है आम | बवासीर का घरेलू इलाज( bawasir ke gharelu nuskh ) के लिए आम बहुत ही फायदेमंद होता है | एक आम के आधे कप रस में 25 ग्राम मीठा दही और एक चम्मच अदरक का रस अच्छे से मिला ले | अब इसका सेवन करे | इस नुस्खे का सेवन दिन में तीन बार करना है | इससे बवासीर में तेजी से फायदा मिलता है |

ये भी पढ़ें : आम के फायदे

खूनी बवासीर की दवा है लौकी | Piles Treatment in Hindi

अगले उपाय के रूप में आप लौकी के पत्तो को पीसकर उसका मस्सों पर लेप करें | लौकी खूनी बवासीर की दवा ( piles ka gharelu upchar ) के रूप में काफी फायदेमंद है | इसके अलावा आप गवार के पौधे के 11 हरे पत्ते, 11 काली मिर्च पीसकर 62 ग्राम पानी मिलाकर रोजाना पिए | 7 दिन में ही आपको इसका फायदा दिखने लगेगा |


बवासीर की अचूक दवा है छाछ,नमक और अजवाइन | Piles Treatment in Hindi

इनके अलावा रोजाना मालिश करने, ज्वार की रोटी खाने तोरई, चौलाई और बथुए की सब्जी खाने, चुकन्दर खाने, कच्ची गाजर का रस पिने कच्ची मूली  खाने से भी बवासीर में तेजी से फायदा मिलता है | अगर आप रोजाना छाछ में नमक और अजवाइन मिलाकर पिते है तो यह बवासीर की अचूक दवा( bawaseer ka gharelu upchar )है, और नस्ट हुए बवासीर की समस्या वापस सामने नहीं आती है| छाछ का सेवन भोजन करने के अंत में करें |

ये भी पढ़ें : कब्ज का रामबाण इलाज

हम उम्मीद करते है की आज की यह जानकारी आपके लिए फायदेमंद सिद्ध होगी | आगे भी हम सेहत से जुडी ऐसी ही उपयोगी  जानकारी आपके लिए लाते रहेंगे | अगर आपको यह पोस्ट पसंद आयी हो तो इसे लाइक और शेयर करें | अगर आपके पास बवासीर के लक्षण और बवासीर का घरेलू उपचार से सबंधित कोई सवाल या सुझाव हो तो कमेंट करें |



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here