Home स्वास्थ्य घरेलू उपचार बवासीर के कारण और बवासीर के इलाज में असरदार घरेलू दवा ,उपाय...

बवासीर के कारण और बवासीर के इलाज में असरदार घरेलू दवा ,उपाय और नुस्खे | Piles ka Ilaj in Hindi

0
412
bawaseer ka ilaj, gharelu upchar

हम आपके लिए लाये है बवासीर को खत्म करने के बेहतरीन उपाय | हम आपको जो बवासीर का इलाज ( bawaseer ka ilaj ) बताने जा रहे है अगर आप इन्हे अपना लेते है तो आपको बवासीर के लिए डॉक्टर को दिखाने की जरुरत नहीं पड़ेगी | हमारे दिए गए सुझावों से सिर्फ Bawaseer ka ilaj में नहीं बल्कि आपको कब्ज़ से भी छुटकारा दिलायेगी | बवासीर को जड़ से खत्म करने वाले उपाय आपके आसपास घर में ही मौजूद होते है |तो आइये जानते है  बवासीर के इलाज में असरसर घरेलू दवा ( bawaseer ki dawa ) के बारे में |

पाईल्स यानि बवासीर की बीमारी किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकती है | पाइल्स की बीमारी एकदम से होने वाली बीमारियों में से नहीं है | लम्बे समय की हमारी गलत जीवनशैली के कारन पाइल्स की समस्या होती है और यह बीमारी धीरे धीरे बढ़ती जाती है  |

यही वजह है की पाइल्स की समस्या को किसी भी नुस्खे से रातों रात या कम समय में ठीक नहीं किया जा सकता है | bawaseer ke liye yogasan भी फायदेमंद होते है इसके साथ ही bawaseer ka ilaj पूरी तरह से करने के लिए कुछ परहेज और सावधानी बरतने के साथ साथ एक से अधिक उपाय करने की जरुरत होती है |

bawaseer ka ilaj hindi me

विषय सूची

बवासीर का कारण कब्ज और एसिडिटी | Piles Causes in Hindi

जिन भी लोगो को कब्ज और पेट ख़राब होने की समस्या अधिक रहती है उन लोगो को पाइल्स की समस्या होने के सबसे अधिक चांस रहते है | महिलाओं में प्रेगनेंसी के समय भी पाइल्स की समस्या हो जाती है | इसके अलावा जिन लोगो को हाई ब्लडप्रेशर  की समस्या रहती है, उन्हें भी पाईल्स होने के खतरा अधिक होता है | अगर आपके परिवार में पहले भी किसी को पाइल्स की समस्या रही है तो आपको भी पाइल्स होने के चांसेज है |

पाइल्स की समस्या हमारे गुप्तांग यानि की प्राइवेट पार्ट में होती है इसलिए अधिकतर लोग इसे दुसरो से छुपाते है | और इसे  किसी के साथ शेयर करने में भी झिझकते है | यही वजह की सही समय पर ध्यान नहीं देने और सही सलाह नहीं लेने की वजह से यह समस्या समय के साथ साथ गंभीर होती जाती है |

पाइल्स की असली वजह पेट से शुरू होती है और जितनी भी बीमारिया हमारे पेट की वजह से होती है अगर उन पर सही समय पर ध्यान दे दिया जाये तो उन्हें आसानी से ठीक किया जा सकता है | लेकिन अधिक समय हो जाने पर इन बीमारियों से निजात पाने में बढ़ी मुश्किल हो जाती है | इसलिए जैसे ही इस बीमारी से सम्बंधित कोई भी लक्षण दिखाई दे उसी के साथ पहले ही दिन से बवासीर की दवा ( bawaseer ka dawa ) शुरू कर देनी चाहिए |

बवासीर के प्रकार | Types of Haemorrhoids In

बवासीर दो प्रकार का होता है | आंतरिक बवासीर और बाहरी बवासीर | आज हम आपको इन दोनों के बारे में विस्तार  बताएँगे |

आंतरिक बवासीर | Internal Haemorrhoids In Hindi

इस तरह के बवासीर के लक्षण बहुत कम दिखाई देते है | और आंतरिक बवासीर के लक्षण तब तक नहीं दिखाई देते जब तक की ये पर्याप्त रूप से बढ़े हुए नहीं होते हैं, जिस स्थिति में उन्हें महसूस किया जा सकता है। आंतरिक बवासीर आमतौर पर दर्दरहीत होते हैं | कभी कभी ये गुदा से बाहर भी निकल जाता है | अगर ये फ़ैल गया है तो आपको वहां थोड़ा नम महसूस होगा | 

बाहरी बवासीर | External Haemorrhoids In HIndi

बाहरी बवासीर त्वचा के नीचे स्थित होते हैं जो गुदा के चारों ओर होते हैं, और आंतरिक बवासीर की तुलना में कम होते हैं। उन्हें सूजन होने पर महसूस किया जा सकता है |

बवासीर का इलाज | Piles Treatment in Hindi

Bawaseer ka ilaj
bawaseer ka ilaj

अगर आपकी खान-पान की आदत ख़राब है तो आपको बवासीर ही नहीं और भी की बीमारी आपको अपना शिकार बना सकती है | आप फास्टफूड या तला भुना ज्यादा खाते है तो बहुत अधिक सम्भावना है की आपको बवासीर हो जाये | अगर आपके बवासीर है तो हम आपके लिए बवासीर का इलाज लेकर आये है | हम उम्मीद करते है की हमारे बताये गए बवासीर के उपाय आपके लिए फ़ायदेमंद होंगे |

ये भी पढ़ें : पेट में कब्ज का कारण और दूर करने के उपाय

bawaseer ka gharelu ilaj

पुरानी बवासीर का घरेलू इलाज है जात्यादि ऑइल | Home Treatment for Piles in Hindi

जात्यादि ऑइल से बवासीर का इलाज (bawaseer ka ilaj jatyadi oil) बहुत ही लाभकारी है | इससे पाइल्स की समस्या बहुत तेजी से ठीक होती है | जात्यादि तेल में मुलेठी,  हरड़, शहद और हल्दी जैसी 20 आयुर्वेदिक जड़ी बुटिया मिली होती है | यह पूरी तरह प्राकृतिक होता है | हम इसमें शहद का भी इस्तेमाल कर रहे है शहद के फायदे बहुत अधिक है क्युकी शहद में एंटी बैक्टीरयल तत्व पाए जाते है|

जात्यादि तेल का इस्तेमाल घावों को भरने और त्वचा से सम्बंधित कई तरह के रोगो को दूर करने के लिए किया जाता है | इस तेल की खासियत है की इसका असर पाइल्स के मस्सों पर बहुत तेजी से होता है | और एक बार ठीक हो जाने पर यह उस जगह के इन्फेक्शन को पूरी तरह ठीक कर देता है | जिससे की यह प्रॉब्लम दुबारा कभी भी नहीं होती है |

उपयोग करने की विधि  

आइये अब जानते है piles ka ilaj करने के लिए इस तेल का इस्तेमाल कैसे करना है | एक रुई यानि की कॉटन के टुकड़े को जात्यादि  तेल में अच्छी तरह भिगो ले | इस भीगे हुए कॉटन बॉल को अपने एनस यानि की गुदा द्वार पर लगाकर हलके हाथ से अंदर की और दबाये |

ऐसा करने से कॉटन में मौजूद तेल निकलकर अंदर रेक्टम की और जायेगा और वहां के इफेक्टिव एरिया को तेजी से ठीक करेगा | लेकिन हमें इस बात का ध्यान रखना है की हमें एक बार में 2 से 3 ML  तेल का ही इस्तेमाल करना है | अगर आप के मस्से ज्यादा अंदर की और है तो कोसिस करे की यह तेल उन तक पहुंचे |

इस तेल का इस्तेमाल 3 से 4 बार या दिन भर में जितनी भी बार आप शौच के लिए जाते है तब शौच जाने से पहले और और शौच जाने के बाद इस तेल का इस्तेमाल करे |  और साथ ही सोने से पहले इस तेल को जरूर लगाए | रात में जो तेल से भीगा हुआ कॉटन आप लगा रहे है उसे पूरी रात भर उस जगह पर लगा रहने दे | इससे पाईल्स की प्रॉब्लम तेजी से ठीक होती है |

जात्यादि तेल का इस्तेमाल बवासीर और पाईल्स की प्रॉब्लम में पुराने समय से किया जाता आ रहा है | एक हफ्ते तक इसका इस्तेमाल करते रहने से आप कमाल का फर्क महसूस करेंगे | इसके अलावा भी हम और भी आयुर्वेदिक नुस्खों का इस्तेमाल कर सकते है |

Khooni Bawasir Ka Ilaj in Hindi

खूनी बवासीर का उपचार करे आम के बीज, जीरा और जामुन के बीज से | Khooni Bawasir Ka Ilaj in Hindi

जामुन के बीज, आम के बीज और जीरा पावडर से bawaseer ki bimari ka ilaj भी किया जा सकता है | आम के फायदे तो बहुत अधिक है ही साथ ही आम के बीज खुनी बवासीर में बहुत अधिक फायदेमंद होता है| जिन भी लोगो को पाइल्स की बीमारी लम्बे समय से है और खून आने की समस्या रहती है ऐसे में आम के बीज बहुत लाभकारी होते है |

बनाने की विधि

बवासीर का आयुर्वेदिक इलाज करने के इस नुस्खे को बनाने के लिए सबसे पहले आम और जामुन के बीजो को अच्छी तरह धोकर सूखा ले और इनके सूखने के बाद इनको  पीसकर पावडर बना ले | आम के बीजो का पावडर बनाते समय आम के बीज के अंदर के भाग का ही इस्तेमाल करें |

इसके बाद 50 ग्राम जामुन के बीज में 25 से 30 ग्राम आम की गुठली का पावडर और 25 ग्राम जीरे का पावडर डालकर इन सारी चीजों को अच्छी तरह से मिक्स कर ले | इस तरह यह नुस्खा तैयार हो जायेगा | इस तैयार पावडर का सेवन रोजाना सुबह शाम बहुत हलके गरम पानी के साथ मिलाकर करे |

इसमें मौजूद जामुन के बीज हमारे पेट को भी साफ़ करते है और हमारे स्टूल को भी नरम बनाते है | इससे हमारा पेट बिना किसी जोर लगाए आसानी से साफ़ हो पता है और किसी भी तरह के  इन्फेक्शन को भी यह तेजी से ख़त्म करता है | इस चूरन का सेवन हमें सुबह और दिन के खाने के बाद ही करना है रात के समय इस चूर्ण का सेवन नहीं करना है |

बवासीर के मस्से का इलाज है अभ्यारिस्ट | Bawaseer Home Treatment in Hindi

इस bawasir ke gharelu nuskhe abhyarist को बनाने में 15 से भी अधिक आयुर्वेदिक औषधियों का इस्तेमाल किया जाता है | bawasir ke upchar का यह नुस्खा पाइल्स की बीमारी में मस्से में होने वाले दर्द में बहुत ही राहत प्रदान करता है | इसके लिए 1 कप हलके गर्म पानी में 2 से 3 चम्मच अभयरिस्ट की मिलाकर लेवे |

आप कुछ ही दिनों में देखंगे की दर्द में कमी होगी और पाइल्स की समस्या भी धीरे धीरे ख़त्म होती जाएगी | एक बात का ध्यान रखे की इसका इस्तेमाल एक बार में 15 से 20 ml  से अधिक ना करे, और प्रेग्नेंट महिलाओ को भी इसका सेवन नहीं करना चाहिए | प्रेगनेंसी के दौरान इसका सेवन आपके स्वास्थ के लिए हानिकारक हो सकता है |

पाइल्स का घरेलू उपचार है सब्जियां | Piles Ka Gharelu Upchar in Hindi

इसके अलावा bawasir ka desi ilaj me sabjiya अपने खानपान में शामिल करके भी आप पाईल्स की समस्या में फायदा पा सकते है | इनमे सबसे प्रमुख है मूली और करेला | मूली और करेले का रस पाइल्स और बवासीर की समस्या में बहुत फायदेमंद होता है |

यदि आपको खुनी या बादी  किसी भी तरह के बवासीर की समस्या है तो आपको हफ्ते में तीन बार करेले का रस और हफ्ते में तीन बार मूली का रस जरूर पीना चाहिए | इससे इन्फेक्शन तेजी से ठीक होता है और दर्द में भी राहत मिलती है |

ये भी पढ़ें : सौंफ के पानी से 5 दिनों में 10 किलो चर्बी घटाए

बवासीर का अचूक इलाज है ये फल | Piles Home Treatment Tips in Hindi

जो bawaseer ka jad se ilaj me fal बहुत फायदेमंद होते हैं | इनमे पपीता तरबूज,बील का फल, जामुन और नारियल पानी के फायदे बहुत अधिक है | बिल का फल पाईल्स में एक चमत्कारिक औषधि की तरह काम करता है |

जिन लोगो को भी कब्ज या एसिडिटी की समस्या है उन्हें हफ्ते में 3 बार इसके शरबत या पावडर का सेवन जरूर करना चाहिए | इसके साथ ही दिन में एक समय नारियल पानी भी जरूर पीना चाहिए | नारियल पानी हमारे पेट में हुई गर्मी में ठंडक प्रदान करता है |

पाइल्स के दौरान पेट में  बढ़ी जरा सी गर्मी भी अचानक या फ्रेश होने के बाद होने वाले दर्द का कारण बन सकती है| ऐसे में रोजाना खाली पेट आधा गिलास नारियल पानी पीना बहुत लाभकारी होता है |

इसके अलावा पेट को ठंडा रखने के लिए ताजा दही का सेवन भी बहुत फायदेमंद होता है | रोजाना दलिये और ओट्स के साथ दही का सेवन करने से शरीर को जरुरी फाइबर मिलता है और इससे हमारे पेट की गर्मी भी ख़त्म होती है |

bawasir ka gharelu upchar

बवासीर का देसी इलाज करने के लिए खाएं सलाद | Gharelu Nuskhe for Piles in Hindi

इसके अलावा bavasir ka gharelu upchar करने के लिए आपको सब्जी के रूप में पालक और कटहल का सेवन करना चाहिए | इनमे फाइबर और आइरन की अच्छी मात्रा होती है जो बवासीर के मस्से को ठीक करने में बहुत ही फायदेमंद होते है |

शरीर में आइरन और फाइबर की प्रचुर मात्रा में होने पर हमें स्टूलपास यानि की मल विसर्जित करने में किसी भी तरह की तकलीफ नहीं होती है | और इनके नियमित सेवन से शरीर को एनर्जी भी मिलती है |

अगर आप रोजाना भोजन में रोटी खाते है तो आपको आधा पेट रोटी की बजाय सीजनेबल फलो और ग्रीन  सलाद से भरना चाहिए | और रोटी बनाते समय उसमे थोड़ी मात्रा में जौ के आटे को भी मिला ले |

शरीर में पानी की कमी पाइल्स की बीमारी को और भी गंभीर स्थिति तक ले जा सकती है इसलिए इस दौरान अधिक से अधिक पानी पिए लेकिन 1 घंटे में 250 ml  से अधिक पानी नहीं पिए |

बवासीर का इलाज ग्वारपाठा से | Home Remedies For Piles In Hindi

Aloe vera se Bawaseer ka ilaj
bawaseer ka ilaj

 एलोवीरा के फायदे तो सब जानते ही है की ये हमारी सेहत के लिए कितना गुणकारी है | ये सिर्फ आपके चेहरे को गोरा करने का तरीका ही नहीं है बल्कि aloevera se bawaseer ka ilaj भी कर सकते है | जिस तरफ आपके पाइल्स हो वहां आपको एलोवीरा का ताजा जैल को लगाना चाहिए | ये आपकी पाइल्स को जड़ से खत्म कर देगा | आप दिन में 2 -3 बार इस जैल का उपयोग करे | 

निम्बू से बवासीर का इलाज | Nimbu se Bawaseer ka ilaj in Hindi

nimbu se Bawaseer ka ilaj
bawaseer ka ilaj

सेहत के लिए निम्बू के फायदे कौन नहीं जनता | अब हम आपको Bawaseer ke ilaj me nimbu को किस तरह काम लेना है ये बताने जा रहे है | सबसे पहले आप निम्बू के रस को छान ले फिर उसमे समान मात्रा जैतून का तेल मिला ले | फिर इसमें आप लगभग 5 ग्राम ग्लिशरीन मिला ले | फिर इस बवासीर के इस उपाय को अपनी गुदा में लगाए जहां आपके पाइल्स हो | 

इसका फायदा ये होगा की आपको मल त्यागने में दिक्कत नहीं आएगी और आपकी जलन और दर्द दूर हो जायेगा | 

बवासीर का घरेलू उपचार करें बेंगन से |  Piles Treatment in Hindi

bengan se Bawaseer ka ilaj
bawaseer ka ilaj

अगला नुस्खा जो हम आजमाने जा रहे है वो है बैगन | बैंगन बवासीर का घरेलू उपचार में (bawaseer ke gharelu nuskhe me baigan ) बहुत ही लाभकारी होता है | अब हम ये देखेंगे की बवासीर के इलाज के लिए बेंगन को कैसे काम में ले |

सबसे पहले हम बेंगन के डांड और उसके छिलके को हटा देंगे और उसको सूखने के लिए छोड़ देंगे | जब बेंगन अच्छी तरह से सुख जाये उसके बाद इसे अच्छी तरह से पीस लेंगे | जब बैंगन को पीस ले तो इसे जलते हुए कोयले पर रख दे और इसे जलने दे | कोयले और बेंगन दोनों जब अच्छे से जल कर राख हो जाये तो इस राख में शहद को मिला ले | और इसको अपने मस्सो पर लगाये | बवासीर के इस उपाय से आपके मस्से झड़ कर गई जायेंगे | इस तरह आप बेंगन से बवासीर का इलाज कर सकते है

बवासीर का घरेलू इलाज करें आम से | Home Remedies For Piles In Hindi

mango se Bawaseer ka ilaj
bawaseer ka ilah

हम बवासीर के इलाज में अगले उपाय के रूम में बवासीर में आम के फायदे के बारे में चर्चा करेंगे | बवासीर का घरेलू इलाज के लिए आम (bawasir ke gharelu nuskhe me aam ) बहुत ही फ़ायदेमंद होता है | आम बवासीर का देसी इलाज है | आपको इस उपाय के लिए करना ये है की एक आपको एक कप में आम का रस लेना है और इसमें 25 ग्राम मीठा दही और एक चम्मच अदरक का रस को अच्छे से मिला ले | अब इसका सेवन करे | इस नुस्खे का सेवन दिन में तीन बार करना है | इससे बवासीर में तेजी से फायदा मिलता है |

लौकी है बवासीर का इलाज | Piles Treatment in Hindi

अगले उपाय के में हम आपको बतायेंगे की बवासीर में लौकी के फायदे क्या है और इसका उपयोग कैसे करना है | सबसे पहले आप लौकी की पत्तों को पीसकर आपका जिस जगह पाइल्स है वहां लगाएं | लौकी को एक तरह से बवासीर का देसी इलाज के रूप में जाना जाता है | अगर आप रोज़ाना लौकी के पत्ते को पीसकर मस्सो पर लगाते है तो 7 दिन में ही आपको इसका फायदा दिखने लगेगा |  

बवासीर का देसी इलाज है छाछ,नमक और अजवाइन | Bawaseer ka Desi Ilaj

हमने आपको बवासीर के उपाय बताये है उनमें अब अगला छाछ में नमक और अजवाइन है | बवासीर के इस घरेलू नुस्खे के लिए आपको छाछ में नमक और अजवाइन मिला कर रोज़ाना इसका सेवन करना है | इससे आपके पेट की गर्मी और अन्य समस्या दूर हो जाती है | और आपको छाछ का सेवन हमेशा खाना खाने के बाद करना है | 

गर्म पानी है बवासीर का देसी इलाज | Piles Treatment in Hindi

आज तक हमने गर्म पानी पिने के फायदे बहुत पढ़े है लेकिन बवासीर के इलाज में गर्म पानी के फायदे आप नहीं जानते होंगे | बवासीर में में भी गर्म पानी के बहुत फायदे है | गर्म पानी सूजन वाली नसों को सिकोड़ने में मदद करने के लिए रक्त के प्रवाह को बढ़ाता है | इससे आप मल का त्याग आसानी से कर पाते है | 

बर्फ लाभदायक है बवासीर के इलाज में | Piles Treatment In Hindi

ice hai Bawaseer ka ilaj
bawaseer ka ilaj

बर्फ को भी पाइल्स की बीमारी में काफी लाभदायक माना गया है। आपके जिस जगह मस्सें हो रखे है आप वहां पर बर्फ से सिकाई करे | आप चाहे तो बर्फ के टुकड़े लेकर उन्हें एक कपड़े में लपेट लें और फिर प्रभावित हिस्से पर लगाएं। रोजाना 5 से 10 मिनट इस तरह सिकाई करने से पाइल्स की समस्या में आराम मिलेगा।

गर्म पानी से नहाना फ़ायदेमंद है बवासीर में |

garam pani hai Bawaseer ka ilaj
bawaseer ka ilaj

अगर आप गर्म पानी से रेगुलर नहाते हो तो इससे भी बवासीर यानी पाइल्स में राहत मिलती है। इससे सूजन और खुजली कम हो जाती है। और अगर आप चाहे तो नारियल का तेल भी काम में ले सकते है | नारियल का तेल से भी बवासीर की खुजली और सूजन कम हो जाती है | 

बवासीर में फायदेमंद योगासन | Yoga for Piles in Hindi

कुछ योगासन के फायदे बवासीर में ( yogasan benefits for bawasir in hindi ) तेजी से असर दिखाते है और इससे इसे तेजी से ठीक किया जा सकता है| इन योगासन से ना सिर्फ आपकी बवासीर की समस्या दूर होगी बल्कि साथ ही आपके पेट की कब्ज गैस, एसिडिटी के अलावा और भी स्वास्थ्य लाभ होंगे | तो आइये जानते है बवासीर में फायदेमंद योगासन के बारे में |

पाइल्स का इलाज है शीर्षासन | Sirsasan Yoga for Piles in Hindi

अगर आप नियमित शीर्षासन करते है तो आप मस्से बाले बवासीर और खुनी बवासीर से पूरी तरह राहत पा सकते है | शीर्षासन के फायदे बवासीर के अलावा त्वचा रोग और बालों सम्बन्धी समस्या में भी होते है | यह आसन करने में कठिन है इसलिए अगर आप पहली बार शीर्षासन कर रहे है तो दिवार के सहारे कर सकते है | इसके लिए सबसे पहले जमीन पर चादर या दरी बिछा लें |

अब निचे जमीन पर सर टिका लें | अपने दोनों हाथों की उंगलियों को आपस में मिला कर सर के आस पास लगा लें | अब धीरे धीरे अपने पैरो को हवा में उठायें | पैर उठ जाने पर उन्हें सीधा लंबवत कर लें | अब कम से कम 1 मिनिट तक इसी तरह सर के बल खड़े रहे | अब धीरे धीरे पैरो को नीचे की और लायें | और सामान्य अवस्था में आ जायें |

pawanmuktasan-ke-fayde-bawasir-me

बवासीर का इलाज है पवनमुक्तासन |
Pawanmuktasan Yoga for Piles in Hindi

जैसा की इसके नाम से ही पता चलता है यह शरीर में बनने वाली गैस के लिए योग है और यह आपकी पेट की गैस को मुक्त करता है | पवनमुक्तासन के फायदे बवासीर के इलाज में तो होते ही है साथ ही यह पेट की कब्ज को भी दूर करते है | इस आसान को करने के लिए सबसे पहले जमीन पर चादर या दरी बिछा लें |

अब अपने पैरो को मोड़ कर घुटनो को सीने तक लेकर आयें | इसके बाद अपने दोनों हाथो से अपने पांवो को बांध लें | अब आपके दोनों पांव आपके पेट और सीने से सट जायेंगे | अब अपने पैरो से पेट को दबाये और पेट की सारी वायु बाहर निकाल दें | इस  प्रक्रिया को 2 से 3 मिनिट के लिए करें|

ये भी पढ़ें : स्तनों का आकार बढ़ाने की एक्सेरसाइज

halasan-ke-fayde-bawasir-me


बवासीर के लिए योगासन में लाभकारी है हलासन | Halasan Yoga for Piles in Hindi

अन्य कई बीमारियों के साथ ही हलासन के फायदे बवासीर दूर करने में भी लाभकारी होते है | हलासन करने से पेट की गैस और कब्ज की समस्या भी दूर होती है | हलासन करने के लिए साफ़ चादर या दरी बिछाएं | इसके बाद पीठ के बल सीधे लेट जायें | अब अपने दोनों पांवो को धीरे धीरे उठाते हुए अपने पैर के पंजो को सर के ऊपर से ले जाते हुए सर से आगे की और अपने पंजो को टिका दें |

अब धीरे धीरे स्वांस ले और छोड़े | थोड़ी देर तक इस अवस्था में रहने के बाद अब वापिस धीरे पांव को अपने स्थान पर लायें और सीधे लेट जायें | यह आसन बवासीर को दूर करने के साथ ही आपकी मांसपेशियों को मजबूत बनाता है और शरीर को लचीला बनाता है |

sarvangasan-benefits-for-bawasir-in-hindi

बवासीर के लिए योग के लिए सर्वांगासन | Sarvangasan Yoga for Piles in Hindi

सर्वांगासन में आपके शरीर की स्थिति उल्टी हो जाती है यानि की सर और कंधे निचे और बाकि शरीर ऊपर | इस कारन से आपके शरीर के निचले हिस्से में रक्त का प्रवाह कम हो जाता है, जिसके कारन की बवासीर की समस्या में फायदा होता है | इस आसन को करने के लिए सबसे पहले सीधे लेट जायें |

अब धीरे धीरे अपने दोनों पांवो को ऊपर उठाये | इसके बाद कूल्हों और कमर को भी ऊपर हवा में उठाये | अब अपने दोनों हाथो का सहारा लेकर आप अपने पीठ तक के हिस्से को बिलकुल लंबवत कर लें | और अपने पांव के पंजो से से छत को छूने की कोशिस करें | इस स्थिति में केवल आपके कंधे और सर ही जमीन पर ठीके रहेंगे बाकि पूरा शरीर हवा में लंबवत होगा |

इस स्थिति में थोड़ी देर रहने के बाद अब धीरे धीरे निचे की और आ जायें | सर्वांगासन करने से बवासीर के साथ ही अपचन , गैस और भूख न लगने की समस्या भी दूर होती है | और आपकी पाचन शक्ति बढ़ाने के उपाय में सर्वंगासन लाभकारी होता है |

parvatasana-ke-fayde-bawasir-me

बवासीर का अचूक इलाज है पर्वतासन | Parvatasan Yoga for Piles in Hindi

पर्वतासन में शरीर की स्थिति को पर्वत के सामान बनाया जाता है , इस वजह से इसे पर्वतासन कहते है | पर्वतासन को बवासीर का अचूक इलाज (bawasir ka ilaj) माना जाता है| यह पुरे शरीर की स्ट्रेचिंग के लिए यह सबसे अच्छा व्यायाम है |

इस आसन को करने के लिए सबसे पहले किसी साफ़ और समतल स्थान पर चादर या दरी बिछा दें | इसके बाद इस पर खड़े हो जायें | अब धीरे धीरे अपने दोनों हाथो को ऊपर की और ले जायें | अब धीरे धीरे अपने दोनों पंजो को धीरे धीरे उठायें | अब कुछ देर तक इसी स्थिति में बने रहें |

यह आसन करने से आपके सारे शरीर का अच्छा व्यायाम हो जाता है | और इसके नियमित अभ्यास से बवासीर के साथ ही कई और समस्याएं भी पूरी तरह दूर हो जाती है |

बवासीर में परहेज और सावधानियां | Bawasir me Parhej aur Savdhaniya in Hindi

ज्यादा बैठने से परहेज करें

bawaseer ke upay
bawaseer ka ilaj

 अगर आप जॉब करते है और आपके पास अगर डेस्क जॉब है तो आप थोड़ा सा सचेत हो जाइये | क्यों की आपके लिए हर 1 घंटे 5 -7 मिनट की वाक बहुत जरुरी होती है | क्यों की वाक करने से रेक्टल प्रेशर में राहत मिलती है | और आप कोशिश करे की आपकी थोड़ी तेज वाक करे | क्यों की ये आपके लिए बहुत जरुरी है | 

अपनी गुदा हमेशा इसे साफ रखें |

जब भी आप नहाने जाये अपनी साफ सफाई का पूरा ध्यान रखे | आप गर्म पानी से अपनी गुदा को साफ कर सकते हो । साबुन या अल्कोहल-आधारित या सुगंधित वाइप्स का उपयोग न करें, जो बवासीर को बदतर बना सकते हैं | 

टॉयलेट पेपर का उपयोग सावधानी से करें | Bawaseer ka Ilaj desi in Hindi

Bawaseer ka ilaj
bawaseer ka ilaj

अगर आप टॉयलेट पेपर का उपयोग करते हो तो हमेसा साधारण पेपर का ही इस्तेमाल करे | सुगंधित और रंगीन टॉयलेट पेपर में अतिरिक्त रसायन होते हैं जो संवेदनशील क्षेत्रों में परेशान कर सकते हैं। जब आप पोंछने की जरूरत हो तो सादे, सफ़ेद, बिना रंग के टॉयलेट पेपर या नम टॉयलेट पेपर का इस्तेमाल करें। 

हमने अभी आपको जो बवासीर का इलाज (bawaseer ka ilaj) के उपाय बताये है इनके अलावा भी आप अपने रूटीन और लाइफस्टाइल में कुछ बदलाव करके भी पाइल्स की बीमारी से बचा जा सकता है। अब हम आपको कुछ ऐसे बवासीर के उपाय बताने जा रहे है जिन्हे आप अपनी दिनचर्या में अपना कर बवासीर की समस्या में और अधिक लाभ ले सकते है | 

  • रोज़ाना भरपूर पानी पिए और साथ में तरल पदार्थ का सेवन ज्यादा से ज्यादा कर दे 
  • आप जो भी खाना खा रह हो वो हमेशा फाइबर से भरपूर होना चाहिए | क्यों की फाइबर हमारे पाचन तंत्र को अच्छा बनाता है | फाइबर उल मूवमेंट में भी मदद करता है। इसके अलावा फाइबर मल को भी सॉफ्ट बनाने में हेल्प करते हैं ताकि वह आसानी से शरीर से बाहर निकल पाए।
  • हमेसा हल्के और ढीले कपडे पहने और साथ ही अपने प्राइवेट हिस्से की नियमित तौर पर सफाई करें।

बवासीर में क्या नहीं खाना चाहिए | Bawaseer me Kya Nahi Khana Chahiye

पाइल्स की बीमारी एक बहुत ही गंभीर और दर्दनाक बीमारी है | यह बीमारी चाहे शुरू के  स्टेज पर हो या ठीक होने वाली हो लेकिन पूर्ण रूप से स्वस्थ होने के लिए कुछ परहेज और सावधानियाँ रखना बहुत जरुरी है | इस दौरान खानपान में तीखा और मसालेदार भोजन को छोड़ देना चाहिए |

तीखे पन के लिए आप हरी मिर्च का इस्तेमाल कर सकते है लेकिन इस दौरान लाल मिर्च का इस्तमाल बिलकुल कम से कम करना चाहिए | लेकिन अगर आप अनजाने में तीखी या मसालेदार चीजे खा लेते है तो उसके बाद अपने पेट में होने वाली गर्मी के लिए खीरे और पुदीने का जूस जरूर पिए | या फिर नारियल पानी का सेवन करे |

बवासीर होने पर मस्से होने और उनमे खून आने की प्रॉब्लम होती ही है | यह मस्से बढ़ी हुई बादी  और फैट का ही रूप होते है | इसलिए इस समस्या में ऐसी चीजों का सेवन करना जो शरीर में बादी और फैट की मात्रा को और अधिक  बढ़ाये वह भी इस बीमारी को दुगुनी रफ़्तार से बढ़ा सकता है |

इसलिए मैदा से बनी चीजे जैसे ब्रेड, पाव, बिस्किट और टोस्ट का सेवन कम से कम करें | और साथ ही चर्बी पैदा करने वाली चीजे आलू , चना, चने की दाल, बेसन और सोयाबीन से बनी चीजों से जितना हो सके उतना दूर ही रहे |

ये सारी चीजे शरीर में से पानी को सोखती है और कब्ज की समस्या को बढाती है | इस दौरान हमारा पेट पूरी तरह साफ़ रहना बहुत जरुरी होता है | क्युकी इस बीमारी की मुख्य जड़ ही कब्ज होता है |

इसलिए अगर पाइल्स के समय पेट साफ़ नहीं रहे तो इस बीमारी से बचना नामुमकिन है | इसलिए अधिक तली,मसालेदार,या फिर पैकिंग में आने वाली चीजे जिनमें प्रिजर्वेटिव की मात्रा अधिक होती है ऐसी चीजों का कम से कम सेवन करना चाहिए | और साथ ही जंकफूड को अवॉयड करे और घर का बना पोस्टिक आहार करें |

piles ke gharelu upchar in hindi

बवासीर का उपचार करने के लिए सिगरेट और शराब से रहे दूर | Bawaseer me Parhej in Hindi

पाइल्स की बीमारी में असामान्य ब्लड प्रेशर इस बीमारी को और भी खतरनाक बना सकता है इसलिए इस दौरान ब्लडप्रेशर का सामान्य रहना हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत जरुरी है | इसलिए इस दौरान शराब सिगरेट और नॉन वेज का सेवन बिलकुल नहीं करना चाहिए |

साथ ही मीठे और ज्यादा खट्टी चीजे भी नहीं खानी चाहिए | खासकर जो बाहर की बनी हुई मीठी चीजे जैसे की आइसक्रीम , मिठाई और बेकरी आइटम जिनमे रिफाइन शुगर की मात्रा अधिक होती है जो की हमारे शरीर में पानी को कम करके हमारे मल को सख्त बनाती है | जिसकी वजह से शरीर में कब्ज तेजी से बढ़ता जाता है |

साथ ही खट्टी चीजे जख्मो को और अधिक पकाने और  बढ़ाने में गंभीर भूमिका निभाती है | इसलिए खट्टी चीजे इस बीमारी के दौरान बिलकुल नहीं खानी चाहिए |

ये भी पढ़ें : 3 दिन में फेफड़ों को साफ करके धूम्रपान के प्रभाव को ख़त्म करें

हम उम्मीद करते है की बवासीर का इलाज (piles ka ilaj ) से सबंधित आज की यह जानकारी आपके लिए बहुत  अधिक फायदेमंद सिद्ध होगी | आगे भी आपकी लिए सेहत से जुडी उपयोगी जानकारियां हम लाते रहेंगे | अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आयी हो तो इसे लाइक और शेयर करें | अगर आपके पास बवासीर का घरेलू उपाय एवं नुस्खों से सम्बंधित कोई सवाल या सुझाव हो तो कमेंट करें, धन्यवाद |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here