भारतीय सभ्यता और संस्कृति में पुरातन काल से ही योग का महत्व रहा है | और आज यही योग पुरे विश्व में भारत की पहचान बना हुआ है | जंहा पहले केवल भारत के लोग ही योग का महत्व समझते थे, वहीं आज के समय में पुरे विश्व में बहुत से लोगो के दिन की शुरुआत योग से होती है | पहले कुछ लोगो का यह मानना था की योग केवल साधना और ध्यान के लिए है |

लेकिन अब उन लोगो का यह भरम टूट चूका है | योग से ध्यान को एकाग्र करने  के साथ ही शारीरिक और मानसिक लाभ भी होते है | आज के समय में कोलेस्ट्रॉल, डाइबिटीज और कैंसर रोगी भी योगासन करके पूरी तरह स्वस्थ हो चुके है | आज हम बताएंगे उन योगासनों के बारे में जो की 2020 में सबसे अधिक चर्चित रहे है और स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है |

हॉट योगा के फायदे | Benefits of Hot Yoga in Hindi

योग की बढ़ती लोकप्रियता की वजह से कई तरह के योग दुनिया भर में प्रचलित हुए है | जिनमे से एक है हॉट योगा | हॉट योगा की खासियत है की यह एक ऐसे कमरे में किया जाता है, जिसका की तापमान 40 डिग्री सेंटीग्रेट से ऊपर हो और आद्रता 50 से ऊपर हो | 90 मिनिट के इस सेशन में योग करने के दौरान काफी पसीने आते है | और इस गर्म मौसम में करने के कारन ही इसका नाम हॉट योगा पड़ा है | अगर आप हमेशा थके थके रहते है तो यह हॉट योग आपमें स्फूर्ति भर देगा | साथ ही इस योग को करने से तनाव और अवसाद दूर होता है | साथ ही इस योग को करने से सेक्स स्टेमिना बढ़ती है और दाम्पत्य जीवन खुशहाल होता है | इसके अलावा पेट त्वचा और बालों से सम्बंधित स्वास्थ्य लाभ भी इस योग को करने से होते है |

astang-yog

अष्टांग योगा कैसे करें | Benefits of astang yoga in Hindi

योगासन में अस्टांग योग का भी बड़ा महत्व  है और स्वास्थ्य के लिए इसके बहुत से लाभ है | अष्टांग योग में शरीर के आठ अंग जमीन से स्पर्श होते है इसलिए इसे अष्टांग योग कहते है |

अस्टांग योग कैसे करें | astang yoga kaise kare

इस आसन को करने के लिए सबसे पहले किसी साफ़ स्थान पर कोई चादर या दरी बिछा लें | फिर अपने दोनों हाथो की हथेलिया निचे जमीन पर टिका दे | और पीछे से पैर के पंजे जमीं पर टिका दे | बाकि सारा शरीर हवा में रहना चाहिए | इस स्थिति में आपकी दोनों हथेलिया और दोनों पांव के पंजे जमीन से स्पर्श करेंगे | अब अपनी कोहनियो को मोड़ते हुए शरीर को नीचे लेकर आयें | अब सबसे पहले अपने सीने फिर सर और इसके बाद अपने दोनों घुटनों को जमीन से स्पर्श करा दें | अब आपके दोनों हथेलिया दोनों पंजे दोनों घुटने सीना और मस्तक यानि की सर ये 8 अंग जमीन से स्पर्श हो रहे होंगे | इस स्थिति में थोड़ी देर के लिए रुके | अब धीरे धीरे वापिस अपने शरीर को ऊपर उठायें |

अष्टांग योग करने से पीठ और गर्दन का स्ट्रेस दूर होता है | इस योग के नियमित अभ्यास से आपका मोटापा कम होता है | इस योग से आपके पेट की गैस, कब्ज दूर होती है और पाचन तंत्र मजबूत होता है | इससे शरीर की मांसपेशिया मजबूत होती है | और आपका शरीर स्वस्थ रहता है |  

surynmskar-popular-yogasan-in-hindi

सूर्य नमस्कार के फायदे | Sury Namskar Benefits in Hindi

सूर्य नमस्कार  योगासनों में सर्वश्रेष्ठ माना जाता है | यह कहा जाता है की सब योगासनों को छोड़कर केवल सूर्य नमस्कार ही कर लिया जाये तो श्रेष्ठ है | इस योगासन से पुरे शरीर का व्यायाम होता है | और शरीर की हर तरह की बीमारी दूर होती है |

सूर्य नमस्कार कैसे करें | How to do Sury Namskar in hindi

इस योग को करने के लिए सबसे पहले नमस्कार की स्थति में खड़े हो जाएँ| फिर दोनों हाथो को ऊपर लेकर जाएँ | अब दोनों हाथो को स्वांस छोड़ते हुए निचे लेकर आये | अब एक पांव को पीछे लेकर जाये | अब दूसरे पांव को भी पीछे लेकर जाएँ | अब अष्टांग योग की स्थिति में आ जाएँ | इसके बाद सर को ऊँचा करते हुए भुजंगासन की स्थिति में आ जाएँ | अब एक एक करके दोनों पांवो को वापिस सामने लेकर आये | और अंत में खड़े हो जाएँ | सूर्य नमस्कार करने से चिंता, तनाव दूर होता है | पाचन तंत्र मजबूत होता है , शरीर लचीला बनता है |

शीर्षासन के फायदे | Shirsasan Benefits in Hindi

सभी योगासनों में यह सबसे कठिन योगासन है | शीर्षासन को करने से स्वास्थ्य को बड़े लाभ होते है | जिन लोगो की याददाश्त कमजोर होती है उन्हें यह आसान जरूर करना चाहिए | इसके अलावा जिन लोगो को बालों सम्बन्धी परेशानी है बाल टूटते है झड़ते है या असमय सफ़ेद हो गए है उन्हें भी शीर्षासन करना चाहिए |

शीर्षासन कैसे करें | Shirshasana Kaise Kare

इस आसन को करने के लिए सबसे पहले किसी साफ़ और समतल स्थान पर कोई चादर या दरी बिछायें | इसके बाद वज्रासन में बैठ जाये | फिर अपने सर को जमीन पर टिकाये | सर के निचे कोई कंबल आदि लगा सकते है | अब धीरे धीरे अपने दोनों पांवो को ऊपर उठाने की कोशिस करें | अब पांवो को धीरे धीरे बिलकुल लंबवत कर दें | इस स्थिति में आपके पांव आसमान की और सर जमीन पर टिका होगा | थोड़ी देर तक इस अवस्था में रहने के बाद धीरे धीरे अपने पांवो को निचे लेकर आये | और फिर जमीन पर टिकाकर सीधे खड़े हो जाएँ | यह योगासन स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभकारी है |

शवासन के फायदे | Benefits of Shavasan in Hindi

आज के समय में  दौड़ती भागती जिंदगी में सांस लेने की भी फुर्सत नहीं है | यही वजह है की हर कोई थकान, तनाव और अवसाद में है | इन सभी परेशानियों में शवासन एक बहुत ही फायदेमंद योगासन है | इसके करने से जहा आपका तनाव दूर होता है | शरीर को एनर्जी भी मिलती है | और इसके लगातार अभ्यास से शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य ठीक रहता है |

शवासन कैसे करें | How to do Shavasan in Hindi

इस आसान को करने के लिए साफ़ और समतल पर सीधे लेट जायें | अब अपने शरीर को ढीला छोड़ दे | आँखे बंद कर लें | दोनों हथेलिया ऊपर आसमान की और देखती हुई | करीब 5 से 10 मिनिट एक इस अवस्था में रहें | यह शरीर और मन को रिलेक्स करने के लिए बेहतरीन आसन है |

हम उम्मीद करते है की आज की यह जानकारी आपके लिए फायदेमंद सिद्ध होगी | आगे भी हम सेहत से जुडी ऐसी ही उपयोगी  जानकारी आपके लिए लाते रहेंगे | अगर आपको यह पोस्ट पसंद आयी हो तो इसे लाइक और शेयर करें | अगर आपके पास कोई सवाल या सुझाव हो तो कमेंट करें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here