आदितस्य नमस्कारान ये कुर्वन्ति दिने दिने | आयु प्रज्ञा बलं वीर्यं , तेजस्तेषाम च जायते ||

सूर्य नमस्कार किये जाने से पहले बोला जाने वाला यह मन्त्र सूर्यनमस्कार की हमारे जीवन में उपयोगिता बताता है | इस सूर्यनमस्कार मन्त्र का अर्थ है – जो लोग रोजाना सूर्य नमस्कार करते है , उनकी आयु , बल, वीर्य और तेज में वृद्धि होती है | सभी योगासनों में सूर्य नमस्कार को सर्व श्रेष्ठ माना गया है | सूर्य नमस्कार के फायदे (sury namshkar ke fayde) हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत अधिक है |

आज के इस लेख surya namaskar in hindi में हम जानेंगे की सूर्य नमस्कार कैसे करें , सूर्य नमस्कार का मन्त्र सूर्य नमस्कार के फायदे और सूर्य नमस्कार करते समय क्या नियम और सावधानियां है |

सूर्य नमस्कार को करने से पुरे शरीर का व्यायाम होता है | और केवल इस योगासन को करने से आपका शरीर स्वस्थ , निरोगी और तंदरुस्त बनता है | सूर्य नमस्कार का पूर्ण और अधिक से अधिक लाभ पाने के लिए सुबह सुबह इसे करना चाहिए | यह एक अकेला योगासन है जिसके करने से आपके शरीर की कई तरह की बीमारिया पूरी तरह दूर होती है |

विषय सूची

सूर्य नमस्कार कैसे करें | Steps of Surya Namaskar in Hindi

सूर्य नमस्कार के फायदे बहुत अधिक है, लेकिन इसको सही तरह से करने से ही इसके पुरे लाभ आपके स्वास्थ्य को मिल पाएंगे | अधिकांश लोग ये ही सोचते रहते है की सूर्य नमस्कार कैसे करें (surya namaskar kaise kare) क्युकी उन्हें सूर्य नमस्कार की सही स्थितियों का पता नहीं होता है तो आइये जानते है सूर्य नमस्कार करने की सही स्थितियों के बारे में |

स्टेप्स 1

सबसे पहले एक साफ़ स्थान पर दरी या चादर बिछाकर उस पर सीधे खड़े हो जायें | अब अपने पैर की दोनों एड़ियों और पंजो को आपस में मिला लें | अपने हाथ जोड़कर अपने सीने के पास ध्यान चक्र पर लगा लें | अब अपने गुदा द्वार, और मूत्र द्वार  को अंदर की और खींचे | अब आधा मिनिट तक इस स्थिति में खड़े रहे |

स्टेप्स 2

अब एक लम्बी स्वांस खेंचते हुए धीरे धीरे अपने दोनों हाथो को ऊपर की और लेकर जाये | हाथ ऊपर जाने पर दोनों हथेलिया एक दूसरे की और देखती हुई होनी चाहिए | अब आसमान की और देखे कमर को थोड़ा पीछे की और झुकाये |

स्टेप्स 3

अब धीरे धीरे स्वांस छोड़ते हुए कमर से झुकते हुए अपने सर को घुटनों से लगाने की कोशिश करें | और अपने दोनों हाथो को अपने दोनों पांव के पंजो के बगल में लगाने की कोशिश करें | अगर आपसे यह नहीं हो पा रहा है तो कोई बात नहीं जितना हो सके उतना झुके |

स्टेप्स 4

अब वापिस एक लम्बी स्वांस खींचे और अपने दाहिने पांव को जितना हो सके पीछे की और लेकर जायें | बाकि दोनों हाथ के पंजे और एक पांव एक सीध में रहेंगे | आपका सीना आपके बायें पांव से लग रहा होगा | सर बिलकुल सामने की और देखता हुआ |

स्टेप्स 5

अब स्वांस छोड़ते हुए अपने बायें पांव को भी दाहिने पांव के बगल में ले जाएँ | शरीर ढलाव की स्थिति में | दोनों हथेलिया और दोनों पंजे जमीन पर टिके रहेंगे | नजर 5 कदम दूर पर रहेगी | अब 5 सेकेंड के लिए इस स्थिति में बने रहें |

स्टेप्स 6

अब स्वांस को स्थिर रखते हुए अपने सर, सीने और घुटने को जमीन पर टिका दे बाकि सारा शरीर जमीन से स्पर्श नहीं होना चाहिए | अब 5 से 10 सेकेंड के लिए इस स्थिति में बने रहे |

स्टेप्स 7

अब गहरी स्वांस लेते हुए अपने सर को आगे की और ले जाते हुए ऊपर उठा लें | इस स्थिति में आपकी स्थिति फन फैलाये सर्प की जैसी यानि की भुजंगासन की स्थिति होगी |

स्टेप्स 8

अब स्वांस छोड़ते हुए केवल कूल्हे और कमर के भाग को ऊपर उठाये | और सर को निचे की और लेकर जाएँ | इस स्थिति में आपके दोनों और से ढलान की स्थिति होगी |

स्टेप्स 9

अब वापिस स्वांस खेचते हुए अपने दायें पांव को वापिस अपनी दोनों हथेलियों के बीच में लेकर जायें | और आपका सीना आपके पैर की जांघ और घुटनो पर होगा | दृस्टि बिलकुल सामने की और रखें |

स्टेप्स 10

अब स्वांस छोड़ते हुए  अपना बायां पांव भी आगे की और ले आएं | अब आपकी दोनों हथेलिया आपके पांवों के पंजो के पास होगी | आपका सर आपके घुटनो से लगा होगा |

स्टेप्स 11

अब स्वांस लेते हुए अपने दोनों हाथो को पूरा ऊपर की और लेकर जाये | कमर को जितना हो सके पीछे की और झुकाये | 2 से 3 सेकेंड इस अवस्था में रहे |

सूर्य नमस्कार स्टेप्स 12 | Surya Namaskar Steps 12 in Hindi

अब अंतिम मुद्रा में स्वांस छोड़ते हुए अपने दोनों हाथों को वापिस नीचे लेकर आयें | अब सीधे खड़े हो जाएँ और आपके हाथो को नमस्कार की मुद्रा में ह्रदय चक्र के पास जोड़ लें | इस समय आपकी स्थिति पहली स्थिति के जैसे हो जाएगी | इसी स्टेप्स के साथ आप और सूर्य नमस्कार भी कर सकते है |

सूर्य नमस्कार योग में स्वांस का रखें ध्यान | Surya Namaskar in Hindi

यह सूर्य नमस्कार की पूरी 10 स्टेप्स है | जिनके द्वारा आप सही तरह से सूर्य नमस्कार कर सकते है | सूर्य नमस्कार के फायदे ( Sury namaskar benefits in hindi ) आपको तभी प्राप्त होते है जब आप सूर्यनमस्कार की सभी स्थितियों को सही तरीके से करें | सूर्य नमस्कार करते समय आपको अपने स्वांस पर बहुत ध्यान रखना चाहिए | आप सूर्य नमस्कार के 10 स्टेप के प्रत्येक चक्र करने से पहले एक सूर्य मन्त्र बोल सकते है | शुरुआत में आप केवल 3 सूर्य नमस्कार चक्र से शुरुआत कर सकते है बाद में बढाकर 5 और 10 और अंत में रोजाना 13 सूर्य नमस्कार करें | निचे हम सूर्य नमस्कार के प्रत्येक चक्र से पहले बोला जाने वाला मन्त्र आपका बता रहे है | आप चाहे तो इसे बोल सकते है नहीं तो यह जरुरी नहीं है |

सूर्य नमस्कार मन्त्र | Surya Namaskar Mantra in Hindi

  1. ॐ मित्राय नमः
  2. ॐ रवये नमः
  3. ॐ सूर्याय नमः
  4. ॐ भानवे नमः
  5. ॐ खगाय नमः
  6. ॐ पुष्णेय नमः
  7. ॐ हिरण्यगर्भाय नमः
  8. ॐ मरीचये नमः
  9. ॐ आदित्याय नमः
  10. ॐ सवित्रेय नमः
  11. ॐ अर्काय नमः
  12. ॐ भास्कराय नमः
  13. ॐ श्री सवित्र सूर्य नराणाय नमः

सूर्य नमस्कार के फायदे | Benefits of Surya Namaskar Yoga in Hindi

सूर्य नमस्कार करने से हमारे पुरे शरीर का व्यायाम होता है और रोजाना सूर्य नमस्कार करने से कई तरह की बीमारियां दूर होती है तो आइये जानते है नियमित सूर्य नमस्कार करने के हमारे स्वास्थ्य के लिए क्या फायदे है |

सूर्य नमस्कार के फायदे शरीर की चर्बी कम करने में | Sury Namaskar Benefits for Weight Loss in Hindi

सूर्य नमस्कार से आपके शरीर की पूरी मांसपेशियों का व्यायाम होता है | अगर आप रोजाना सूर्य नमस्कार करते है तो इससे आपकी शरीर की जमी चर्बी पिघलने लगती है | और विशेषज्ञों का मानना है की डाइटिंग की तुलना में सूर्य नमस्कार करने से तेजी से शरीर की चर्बी घटती है |

सूर्य नमस्कार से रहते है जवान | Sury Namskar Benefit for Anti Aging in HIndi

नियमित सूर्यनमस्कार करने से आप लम्बी उम्र तक भी जवान बने रहते है | सूर्य नमस्कार करने से शरीर के प्रत्येक भाग में रक्त संचरण सुचारु रूप से हो पाता है | जिससे की त्वचा चमकदार और मुलायम रहती है | और बढ़ती उम्र के साथ उस पर झुर्रिया नहीं पड़ती है |

सूर्य नमस्कार करने से पाचन होता है मजबूत | Sury Namaskar Benefit for Constipation in Hindi

प्रतिदिन सूर्य नमस्कार करने से हमारा मेटाबॉलिज्म अच्छा होता है और हमारा पाचन तंत्र मजबूत बनता है | अगर आपको कब्ज की शिकायत है या सुबह अच्छे से फ्रेश नहीं हो पाते है तो आपको रोजाना सुबह खाली पेट सूर्य नमस्कार करना चाहिए |

सूर्य नमस्कार से तनाव होगा दूर | Sury Namskar Remove Depression in Hindi

आज के समय इस भागदौड़ भरी जिंदगी में काम के दबाव और किसी कलह के चलते छोटी सी बातों पर व्यक्ति तनाव में आ जाते है | ऐसे में सूर्य नमस्कार का नियमित अभ्यास करने से हमारा नर्वस सिस्टम सही ढंग से काम करता है और हमारा तनाव दूर होता है |

सूर्य नमस्कार से शरीर बनता है लचीला | Sury Namskar Benefits for Body Flexible in Hindi

सूर्य नमस्कार में 12 स्टेप्स होती है | हर स्टेप में शरीर का अलग अलग व्यायाम होता है जिससे हमारा शरीर लचीला बनता है | और शरीर के लचीलापन अच्छा होने से हम किसी भी काम को आसानी से कर सकते है |

सूर्य नमस्कार है पीरियड्स में फायदेमंद | Sury Namskar Benefits for Periods in Hindi

महिलाओं के लिए भी सूर्यनमस्कार करना फायदेमंद होता है | जिन महिलाओं को अनियमित माहवारी की समस्या रहती है उन्हें रोजाना सूर्य नमस्कार करना चाहिए | साथ ही सूर्य नमस्कार के नियमित अभ्यास से प्रसव भी आसानी से होता है |

सूर्य नमस्कार से तेज होती है स्मरण शक्ति | Sury Namskar Benefit for Strong Memory in Hindi

सूर्य नमस्कार के करने से शरीर के साथ ही दिमाग में भी रक्त संचरण सुचारु रूप से होता है | जिससे सोचने समझने की क्षमता का विकास होता है और स्मरण शक्ति बढ़ती है | साथ ही सूर्य नमस्कार करने से शरीर के विषैले तत्व भी बाहर निकलते है और शरीर के सभी अंगो तक पर्याप्त ऑक्सीजन पहुंच पाती है |

सूर्य नमस्कार योग के समय ध्यान दी जाने वाली सावधानियां | Surya Namaskar in Hindi

  1. सूर्य नमस्कार योग हमेशा सुबह सूर्योदय के वक्त करना चाहिए |
  2. जिस जगह पर सूर्य नमस्कार योग करें वो समतल  होनी चाहिए |
  3. सूर्य नमस्कार योग करते समय स्वांस लेने और छोड़ने का पूरा ध्यान रखें |
  4. दरी या चद्दर पर ही सूर्य नमस्कार योग करें किसी गद्दे या स्पंज मेट पर सूर्य नमस्कार ना करें |
  5. अधिक तेजी से सूर्य नमस्कार योग ना करें | केवल सामान्य गति से ही सूर्य नमस्कार योग करना चाहिए |
  6. जिन लोगो को स्लिप डिस्क या है या हाई ब्लड प्रेशर की शिकायत है उन्हें यह सूर्य नमस्कार योग नहीं करना चाहिए |

Q .1 सूर्य नमस्कार के फायदे (Sury namaskar benefits in hindi )सबसे अधिक किस समय करने से मिलते है ?

Answer : अगर आप सुबह सूर्योदय से पहले सूर्यनमस्कार करते है तो इसका सबसे अधिक फायदा अधिक होता है |

Q .2 सूर्य नमस्कार सूर्य नमस्कार कैसे करते हैं?

Answer : सूर्य नमस्कार सुबह बिना कुछ खाये एक समतल स्थान पर पूर्व दिशा की और मुँह करके करते है |

Q .3 सूर्य नमस्कार किन्हें नहीं करना चाहिए ?

Answer : जिन लोगों को हाईब्लडप्रेशर और स्लिप डिस्क की परेशानी हो उन्हें सूर्य नमस्कार नहीं करना चाहिए |

Q .4 सूर्य नमस्कार मन्त्र क्या है ?

Answer : आदितस्य नमस्कारान ये कुर्वन्ति दिने दिने | आयु प्रज्ञा बलं वीर्यं , तेजस्तेषाम च जायते ||

Q .5 रोजाना कितने सूर्यनमस्कार करने चाहिए ?

Answer : सूर्यनमस्कार के फायदे पाने के लिए शुरुआत में 3 सूर्य नमस्कार से शुरुआत करें और धीरे धीरे इनकी संख्या बढ़ाते हुए 13 तक ले जाये |

हम उम्मीद करते है की sury namskar in hindi से सबंधित आज की यह जानकारी आपके लिए फायदेमंद सिद्ध होगी | आगे भी हम सेहत से जुडी ऐसी ही उपयोगी  जानकारी आपके लिए लाते रहेंगे | अगर आपको यह पोस्ट पसंद आयी हो तो इसे लाइक और शेयर करें | अगर आपके पास सूर्य नमस्कार से सबंधित कोई सवाल या सुझाव हो तो कमेंट करें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here