महिलायें चाहे वो गृहणी हो या कामकाजी, वे हमेशा अपनी जिम्मेदारियों को आगे बढ़कर निभाती है | पति बच्चो और कामकाज के बीच वे खुदकी सेहत पर बिलकुल भी ध्यान नहीं दे पाती है | जिसकी वजह से उनके स्वास्थ्य को लेकर कई तरह की गंभीर समस्याए सामने आती रहती है | और इनमे से एक है PCOS और PCOD | आज यह बीमारी सबसे तेजी से फ़ैल रही है और हर 10 में से 1 महिला इससे पीड़ित है |

PCOS और PCOD की बीमारी का कारन महिलाओ में हार्मोन्स का असंतुलन होना है | इस बीमारी में महिलाओ में मेल हार्मोन्स बढ़ जाते है, और यह अंडाशय यानि की ओवरिस को तेजी से प्रभावित करती है | इस बीमारी के होने के पीछे कई कारन है लेकिन इनमे सबसे प्रमुख है मानसिक तनाव और बिजी लाइफ स्टाइल | इसके अलावा गलत खानपान भी इस बीमारी का कारन बनती है|

PCOS और PCOD के लक्षण |

PCOS या PCOD होने पर शरीर पर कई तरह के लक्षण दिखने लगते है जिसमे चेहरे पर बालो की ग्रोथ का बढ़ना , सर के बालो का पतला होना और झड़ना | साथ ही  अनियमित पीरियड्स और वजन का बढ़ना भी इस बीमारी के मुख्य लक्षण होते है | इस बीमारी पर समय पर ध्यान देकर और सही उपचार लेकर इसे ठीक किया जा सकता है नहीं तो यह बीमारी आगे चलकर गंभीर रूप भी ले सकती है |

महिलाओ के शरीर में गर्भाशय उनके रिप्रोडेक्टिव सिस्टम का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा होता  है | गर्भाशय यानि की ओवरिस का मुख्य काम अपने अंदर एग्स यानि की अंडो का निर्माण करना होता है | मासिक धर्म यानि की पीरियड के दौरान ओवरिस अपने अंदर से यह एग्स रिलीज करती है | और अगर ऐसा नहीं हो पाता है तो पीरियड्स आने में परेशानी होती है |

क्या होती है PCOS और PCOD बीमारी

जिन महिलाओ को PCOS या PCOD की समस्या होती है उनके शरीर में ओवरिस के अंदर या तो एग्स प्रॉपर तरीके से नहीं बन पाते है या बनने के बाद बाहर नहीं आ पाते है | ऐसी स्थिति में वो धीरे धीरे छोटे छोटे बुलबुले बनना शुरू हो जाते है | जिसे सिस्ट या गार्ट खा जाता है | और यह समस्या फिर एक गंभीर बीमारी में तब्दील हो जाती है | इसे पोल्य्सिस्टिक ओवरी सिंड्रोम यानि PCOS या पोलैक्सीस्टिक ओवेरियन डिजीज यानि की PCOD कहा जाता है |

एक बार यह बीमारी हो जाये तो यह शरीर के सारे हार्मोन्स में गड़बड़ी करने के साथ साथ इन्सुलिन लेवल को भी बहुत प्रभावित करती है | जिसके कारन शरीर में मेंस्ट्रुअल सायकल ख़राब हो जाता है | पीरियड्स टाइम पर नहीं आते है, और इनफर्टिलिटी यानि की बाँझपन होने के भी बहुत अधिक चांसेज़ होते है | जिससे की गर्भ धारण करने में बहुत ज्यादा समस्या आती है |

PCOS और PCOD होने पर बढ़ जाता है डाइबिटीज टाइप 2 कैंसर होने का खतरा

इस बीमारी में शरीर का मेटाबोलिजम ख़राब हो जाता है | जिसके कारन शरीर का वजन तेजी से बढ़ने लगता है| और कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ने के साथ साथ ब्लड प्रेशर की प्रॉब्लम भी होती है | जिन महिलाओ को भी PCOD की बीमारी हो चुकी है | उन्हें इसके इलाज में बिलकुल भी लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए | क्युकी इस बीमारी के होने से डाइबिटीज टाइप 2 और कैंसर होने का बहुत ज्यादा खतरा बना रहता है |

जब भी डॉक्टर द्वारा इस बीमारी का इलाज लिया जाता है तब अक्सर यह देखा गया है की एक लम्बे समय तक इस बीमारी के इलाज के लिए दवाइयों पर ही निर्भर होकर रहना पड़ता है | और कई बार तो बिना दवाई लिए मेंसेज भी नहीं आते है | इस कारन बॉडी में दवाइयों का इनटेक बढ़ने के कारन और कई दूसरी तरह की प्रॉब्लम होना शुरू हो जाती है | इसलिए बहुत ज्यादा जरुरी है की दवाइयों के साथ साथ घरेलु और आयुर्वेदिक नुस्खों का भी इस्तेमाल किया जाये | क्युकी यही नुस्खे होते है जो बीमारियों का सीधे  जड़ से और हमेशा के लिए इलाज करते है |

आज हम आपको बताने वाले है कुछ बहुत ही असरदार और कामयाब घरेलु नुस्खे | जिनके नियमित इस्तेमाल से आप PCOD और PCOS की बीमारी में तेजी से सुधार ला पाएंगे | और कुछ आवश्यक सावधानिया और टिप्स जिनका अगर आप ध्यान रखते है तो आप इस समस्या को हमेशा के लिए ख़त्म कर पाएंगे |

हल्दी, आंवला और सहजन के पत्तों का यह नुस्खा दूर करेगा PCOS और PCOD की समस्या को

PCOS और PCOD की प्रॉब्लम में जो सबसे पहला घरेलू नुस्खा है उसके लिए हमे जरुरत होगी हल्दी, आवला पावडर , और ड्रमस्टिक यानि सहजन के पत्तो की| इन्हे मोरिंगा लीफ के नाम से भी जाना जाता है | ड्रमस्टिक एक बहुत ही आम सब्जी है, जिन्हे भी PCOS की समस्या है, उन्हें इसके पत्तो के साथ साथ इसकी सब्जी का भी अधिक सेवन करना चाहिए | अगर आपको इसके ताजे पत्ते नहीं मिलते है, तो आप इसके पत्ते के पावडर का भी इस्तेमाल कर सकते है | जो की आपको ऑनलाइन बहुत ही आसानी से मिल जायेगा |

नुस्खा बनाने की विधि

लेकिन अगर ताजे पत्तो का इस्तेमाल किया जाये | तो इसका असर ज्यादा होता है | इसे बनाने के लिए लिए 1 कप पानी के साथ आधा कप सहजन के पत्ते को मिलाकर इसका जूस बना ले | फिर इसमें आधा टीस्पून यानि की 3 ग्राम हल्दी पावडर मिलाकर , 1 चम्मच आंवले का चूर्ण मिलाये | आंवले के चूर्ण की जगह आप 1 से 2 चम्मच आंवले का जूस भी मिला सकते है | फिर इसे मिलाने के बाद यह ड्रिंक तैयार हो जाएगी |

उपयोग करने का तरीका

इसका सेवन सुबह नाश्ता करने के पहले हफ्ते में 3 से 4 बार किया जा सकता है | PCOD या PCOS की बीमारी में यह बहुत अधिक फायदा पहुँचता है | और साथ ही यह शरीर के बढ़ते हुए वजन को भी तेजी से कम करता है | अगर आप को  यह नहीं मिलता है तो आप आंवले के चूर्ण और आंवले के जूस के साथ हल्दी मिलाकर इसका सेवन कर सकते है |

शहद दालचीनी और मुलेठी का यह नुस्खा दूर करेगा PCOS और PCOD की समस्या पूरी तरह

इसके अलावा एक और नुस्खा है जिसे बनाने के लिए हमे जरुरत होगी शहद, दालचीनी और मुलेठी की | मुलेठी एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जिसका इस्तेमाल शरीर में कई तरह के रोगो के लिए और त्वचा के लिए पुराने समय से किया जाता आ रहा है | इसका पावडर आपको मुलेठी पावडर या लिरॉकीस पावडर के कारन बहुत ही आसानी से कम प्राइज में मिल जाता है | इसे बनाने के लिए 1 कप पानी में आधा चम्मच दालचीनी पावडर और आधा टीस्पून मुलेठी पावडर मिलाकर इसे 5  मिनिट तक मध्यम आंच पर उबालें | उसके बाद इसे छान ले और फिर इसमें 1 चम्मच शहद मिलाये | और इस तरह से यह ड्रिंक तैयार हो जायेगा |

इस ड्रिंक में मौजूद मुलेठी और दालचीनी मदद करते है शरीर में मौजूद मेल हॉर्मोन्स को कम करने में | ये वही हार्मोन्स होते है जिनकी वजह से मेल हार्मोन्स की कमी होती है और चेहरे पर बालो की ग्रोथ बढ़ जाती है | इस ड्रिंक का इस्तेमाल खाना खाने के 1 घंटे बाद किया जा सकता है | और अगर आप चाहे  तो मुलेठी और दालचीनी को रोजाना पि जाने वाली चाय में डालकर भी पी सकते है | इस ड्रिंक का नियमित सेवन करने से शुरुआत के 20 से 25 दिनों में ही काफी अच्छे परिणाम मिलते है |

बरगद की जड़ दूर करेगी PCOS और PCOD की समस्या को पूरी तरह दूर

इसके अलावा बरगद की जड़ भी PCOS या PCOD की बीमारी को ख़त्म करने के लिए बहुत उपयोगी होती है | अगर आपको इसकी जड़ मिल जाती है तो आप इसकी जड़ का पावडर बना रख ले | या फिर आप चाहे तो इसका पावडर ऑनलाइन भी खरीद सकते है | फिर 1 चम्मच बरगद की जड़ के पावडर को 1 कप पानी के साथ मिलाकर 5 मिनिट तक अच्छी तरह उबाल ले | और इसे छानकर इसका सेवन करें | इस ड्रिंक को दिन में या रोजाना शाम को पिया जा सकता है |

आयुर्वेद में बरगद की जड़ का इस्तेमाल प्राचीन समय से महिलाओ से सम्बंधित रोगो के लिए किया जाता आ रहा है और आज भी कई तरह की दवाईयो में इसका इस्तेमाल किया जाता है |  यह शरीर में हार्मोनल बैलेंस को सही करता है | और साथ ही यह ओवरिस को भी ताकत प्रदान करता है | जिससे की समय के साथ पोलिस्टिक ओवरिस में बहुत फायदा मिलता है | इसका इस्तेमाल अगर दूसरे नुस्खों के साथ साथ नियमित रूप से जारी रखा जाये | तो PCOS और PCOD की बीमारी को पूरी तरह से ठीक किया जा सकता है |

मेथी दाना और अलसी भी लाभकारी है PCOS और PCOD में

PCOS की बीमारी को कम करने के लिए मेथी के फायदे और अलसी के फायदे बहुत अधिक है| मेथीदाने को पानी में उबालकर या अंकुरित करके रोजाना एक टाइम जरूर खाना चाहिए | और साथ ही 3 से 4 ग्राम अलसी रोज सोने से पहले खाकर सोना चाहिए | यह हमारे शरीर में ओमेगा 3 फैटी एसिड की कमी को पूरा करता है | जिससे की मासिक धर्म और पीरियड से सम्बंधित प्रॉब्लम में काफी फायदा मिलता है | इसके अलावा अलसी के साथ बादाम या अखरोट का सेवन करना भी PCOS की प्रॉब्लम में बहुत फायदेमंद होता है |

इन सारे घरेलु नुस्खों के साथ साथ इस बीमारी का बाहर से इलाज करना भी बहुत जरुरी है | क्युकी अंदर के साथ साथ बाहर से इलाज करने पर ही इस बीमारी को हमेशा के लिए ख़त्म किया जा सकता है | इसके लिए रोजाना या हफ्ते में 3 बार सोने से पहले अपने पेट के निचले हिस्से यानि की लोअर एब्डोमिन्स जंहा पर बच्चादानी होती है वह पर तिल के तेल से अच्छी तरह 5 से 10 मिनिट तक मालिश करे |

तिल और सरसों के तेल की मालिश लाभकारी है PCOS और PCOD में

तिल के तेल की जगह आप अरंडी का तेल या सरसो के तेल का भी इस्तेमाल कर सकते है | तेल की मालिश करने से ओवरिस में पाए जाने वाले सिस्ट यानि की गांठो को ठीक करने में काफी फायदा मिलता है | और मेंस्ट्रुअल साइकिल में भी तेजी से इम्प्रूवमेंट आता है | और साथ ही मासिक धर्म के समय दर्द अधिक होता है या अनियमित मासिक धर्म की समस्या आती है, तो उसमे भी तेल से मालिश किये जाने पर प्रॉब्लम ठीक की जा सकती है |

इसके अलावा रेगुलर योग और एक्सेरसिजे करना भी PCOS और PCOD की बीमारी में बहुत आवश्यक होता है | योग में सबसे लाभकारी होता है कपालभांति प्राणायाम|  कपालभाति प्राणयाम करना बहुत आसान होता है | अगर आपने कभी यह नहीं किया है तो 1 से 2 बार करने में ही इसे करना अच्छी तरह से सिख जायेगे | किसी भी दवाई से असर हो या ना हो इस प्राणायाम से असर होता है |

घरेलू नुस्खों की मदद से  PCOD या PCOS की बीमारी को बहुत अच्छी तरह कंट्रोल किया जा सकता है | लेकिन अगर आप उसके साथ कपालभांति प्राणायाम करना शुरू कर देते है तो 4 से 6 महीनो के अंदर ही बहुत अधिक सम्भावना होती है की यह बीमारी पूरी तरह से ठीक हो जाये|  क्युकी कपालभांति प्राणायाम एक पेट की एक्सेरसाइज है जिसे करने से पेट की चर्बी काम होती है और साथ ही अंडाशय यानि की ओवरिस में मौजूद गांठ तेजी से ठीक होती है |

एक्सरसाइज जरुरी है करना PCOS और PCOD होने पर

इसके साथ ही रोजाना शारीरिक व्यायाम करना भी बहुत जरुरी है | क्युकी केवल वर्कआउट करने पर ही कई नुस्खों का असर पूरी तरह होता है | जो लोग शारीरिक एक्सेर्साइज़ नहीं करते हुए सिर्फ दवाई और घरेलू नुस्खों का उपयोग करते है | उनके अंदर अच्छे परिणाम आने में अधिक समय लगता है | क्युकी इस तरह खायी हुई चीजे शरीर में जाकर पूरी तरह से निकल जाती है | इसको पूरी तरह से सरीर में पहुंचाने के लिए रोजाना वर्कआउट करना बहुत जरुरी है | इसलिए ज्यादा नहीं तो सुबह या शाम एक लम्बी वाक पर जरूर जाये | इसके अलावा PCOS के साथ ही ब्रेस्ट बढ़ाने के तरीके में भी एक्सेरसाइज बहुत ही लाभकारी है और तेजी से असर दिखाती है |

इन खाने वाली चीजों से करें परहेज

इसके अलावा खानपान पर ध्यान देना भी बहुत आवशयक है | खाने में ज्यादातर घर का बना खाना ही खाये | ज्यादा मैदे और आते से बनी चीजे जिनमे ग्लूटेन पाया जाता है उनका सेवन कम से कम करें | इसके अलावा मीठा और बाहर का पैकेड फ़ूड जितना कम हो सके उतना कम खाये | क्युकी इन सारी चीजो से वजन तेजी से बढ़ता है | और पोलिस्टिक ओवरीज़ होने पर वजन को बढ़ने से रोकना बहुत जरुरी होता है | कोसिस करे की ज्यादा से ज्यादा पानी पिटे रहे और प्रॉपर नींद ले | क्युकी कम नींद लेने से भी हमारे हार्मोन्स पर भी बहुत तेजी से बुरा असर पड़ता है |

ये भी पढ़ें : आम चीजें जो हो सकती है जानलेवा, आज से ही खाना बंद कर दें

तनाव मुक्त रहें

मानसिक तनाव हमारे शरीर में कई तरह की बीमारी को जन्म देता है | इसलिए अधिक से अधिक टेंसन फ्री रहने की कोशिश करें | कोई भी टेंसन हमे मानसिक और शारीरिक रूप से बीमार बनती है | इसलिए हमेशा खुश रहने की कोशिश करें | कोई भी तनाव होने पर आप म्यूजिक सुनकर या कोई अच्छी बुक्स पढ़कर भी अपने माइंड को टेंसन फ्री कर सकती है |

ये भी पढ़ें : टेंसन, डिप्रेसन को करें बाय बाय ,आजमाए ये आसान उपाय

हम उम्मीद करते है की आज की यह जानकारी आपके लिए फायदेमंद सिद्ध होगी | आगे भी हम सेहत से जुडी ऐसी ही उपयोगी  जानकारी आपके लिए लाते रहेंगे | अगर आपको यह पोस्ट पसंद आयी हो तो इसे लाइक और शेयर करें | अगर आपके पास कोई सवाल या सुझाव हो तो कमेंट करें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here